November 24, 2020

मांझी विश्वासघाती, विभीषण को माफ नहीं करती जनता : नीतीश

nitish-kumarपटना। राज्य विधानसभा चुनाव को लेकर केन्द्रीय मंत्रियों द्वारा बिहार पर की जा रही लगातार बयानबाजी और जीतन राम मांझी के एनडीए का दामन थामने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भाजपा के खिलाफ आक्रामक रूख अख्तियार कर लिया है।

सोमवार को जनता के दरबार कार्यक्रम के बाद उन्होंने पत्रकारों से कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के एनडीए में शामिल होने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इतिहास साक्षी है कि इस देश की जनता ने विश्वासघाती को कभी माफ नहीं किया है।

रावण के साथ युद्ध में विभीषण ने भगवान राम का साथ दिया था, इसके बाद भी परिवार के लोग अपने बच्चों को नाम विभीषण नहीं रखते हैं। मांझी विश्वासघाती हैं, ऐसे विभीषण को जनता माफ नहीं करती है।

उन्होंने केन्द्र सरकार समेत भाजपा पर भी जुबानी हमला करते हुए कहा कि ललित मोदी प्रकरण में केन्द्र सरकार विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को बचा रही है, जबकि इस पूरे प्रकरण में केन्द्र सरकार भी शामिल है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नाम लिए बिना उनपर कटाक्ष करते उन्होंने कहा कि उनको इस बात का पता रहता है कि मंत्री किस रंग का कपड़ा पहने हैं, कपड़ा के चलते मंत्री को हवाई जहाज से उतार दिया जाता है, उनको इस मामले की कैसे जानकारी नहीं हुई। इस प्रकरण से भाजपा का दोहरा चरित्र उजागर हो गया। भाजपा का सिद्धांत है कि वह अपनों को बचाती है और दूसरे पर कार्रवाई करती है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्रीय मंत्री अपना काम तो देखते नहीं हैं और दूसरे काम पर टिप्पणी करते हैं। कई वर्षों तक हमलोगों के साथ रहे और फिलहाल केन्द्र में संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद लगातार राज्य सरकार के काम पर टिप्पणी करते हैं जबकि उनको खुद के विभाग बीएसएनएल का काम नहीं दिखता है।

हमेशा कॉल ड्राप की समस्या रहती है और बात होती नहीं है। कहीं ऐसा न हो कि कॉल ड्राप की तरह स्वयं ही ड्राप न हो जाएं।

उन्होंने कहा कि मैं योग का विरोधी नहीं हूं, मैं भी योग करता हूं, लेकिन केन्द्र सरकार के योग के नाम पर दिखावा कर रही है। जिसका विरोधी हूं। इस अभियान में मुंगेर स्थित दुनिया का सबसे बड़ा योग संस्थान को क्यों शामिल नहीं किया गया।

बाबा रामदेव योग गुरु से बड़े बिजनेस मैनेजमेंट गुरु हैं तभी तो मैगी विवाद होते ही तत्काल मैगी का विकल्प लाने का एलान कर दिया। नीतीश ने कहा कि भाजपा में सहनशीलता नहीं है, किसी चीज को बर्दास्त नहीं कर सकते हैं। इसके कारण ही हमलोग उससे अलग हुए थे।

भाजपा राजनीति की संस्कृति को विकृत करने की साजिश कर रही है। राज्यसभा के उपचुनाव में भाजपा का घिनौना खेल शुरू हो गया था। उसे रोकने को जदयू, राजद और कांगेस एकजुट हुआ था। एकजुटता से भाजपा परेशान हो गयी है और उनके नेता अनापशनाप बक रहे हैं।

Courtesy: Jagran

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *